Spoken Word Poetry | I am storm | मैं तूफ़ान हूँ

main toofan hun
मैं धूप हूँ
मैं छांव भी
मैं काली रात हूँ

मैं चाँद भी

मैं हूँ समंदर
मैं नाव भी



नाविक भी मैं ही हूँ
लहर भी
ग़ुरूर हूँ मैं लहरों का
अँधेरा हूँ शहरों का
तारे भी
चमक भी मैं ही
डालें भी
महक भी मैं ही
मैं फूल हूँ
मैं पतझड़ भी
मैं घने पहाड़ हूँ
मैं वादी भी –
तो कहो,
मुझे भर सकते हो
एक दब्बे में,
ताला बंद कर भला, यूँ?
मैं तूफ़ान हूँ
मैं तूफ़ान हूँ
मैं तूफ़ान हूँ

stuti has also written about

4 Comments

Leave a Reply